समीक्षा

अखिलेश के महेश लाल चाहते हैं कि उन की बेटी किसी के साथ भाग जाए !

अखिलेश श्रीवास्तव ‘चमन’ की कहानियों में जो तासीर है वह कहीं अन्यत्र दुर्लभ है । उन की कहनियों में न वाम हैं  , न राम है । बल्कि जीवन...
Continue Reading »
टिप्पणी

अच्छी कविता और संकोच के सागर में समाया इन मित्रों का कविता पाठ

राजेश्वर वशिष्ठ की कविताएं तो हम पहले ही से पढ़ते रहे हैं और उन पर मुग्ध होते रहे हैं । खास कर्ण प्रसंग पर लिखी उन की कविताएं ,...
Continue Reading »
कहानी

स्ट्रीट चिल्ड्रेन

वह तीन थे। दो लड़की, एक लड़का। तीनों तीन देश के। एक लड़की चीन की, एक मलयेशिया की। लड़का सिंगापुर का। बीस-बाइस की उम्र में तीनों ही थे। बेपरवाह...
Continue Reading »
टिप्पणी

मैं धन से निर्धन हूं पर मन का राजा हूं तुम जितना चाहो प्यार तुम्हें दे सकता हूं !

मैं धन से निर्धन हूँ पर मन का राजा हूँतुम जितना चाहो प्यार तुम्हें दे सकता हूँ मन तो मेरा भी चाहा करता है अक्सरबिखरा दूँ सारी ख़ुशी तुम्हारे...
Continue Reading »
संस्मरण

हमारे डियर गौतम चटर्जी के साथ लेकिन ऐसे ही है

  गौतम चटर्जी मेरा  पुराना  मित्र है । बहुमुखी प्रतिभा का  धनी । धुन का  पक्का  । वह लेखक भी है, पत्रकार भी, रंगकर्मी और फ़िल्मकार भी, फोटोग्राफर भी ...
Continue Reading »
टिप्पणी

अनन्यतम शो मैन सहाराश्री

पहली फरवरी की सुरमई शाम! भारत पर्व और सहारा इंडिया परिवार का स्थापना दिवस समारोह। सहारा शहर के ऑडिटोरियम में लोग नृत्य संगीत के सुरूर में थे कि फ़िल्म...
Continue Reading »
टिप्पणी

सहाराश्री के सुख और स्वार्थ का संजाल उन का परिवार

सहाराश्री का सब से बड़ा सुख क्या है ? यह बहुत कम लोग जानते हैं । पर यह दूसरा सवाल है । पहला सवाल तो यह है कि  सहाराश्री...
Continue Reading »
टिप्पणी

अगर दलालों और भडुओं को हम मीडिया के हीरो या नायक कह कर उन की पूजा करेंगे तो इस मीडिया समाज का क्या होगा भला ?

कुछ और फेसबुकिया नोट्स  मीडिया विमर्श का अंक कल शाम मिला । इस में हिंदी पत्रकारिता के 51 हीरो की चर्चा है । चर्चा क्या पूजा है 51 लोगों...
Continue Reading »
राजनीति

जातीय राजनीति के विष ने दलितों का जितना नुकसान किया है, किसी और का नहीं

प्रोन्नति में आरक्षण पर  अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष पी.एल.पुनिया ने घड़ियाली आंसू बहाए हैं और  कहा है  कि  बी.जे.पी. ने आंतरिक रूप से यह निर्णय ले लिया था...
Continue Reading »

आए दिन निर्भया लेकिन गुस्सा अब सड़क पर नहीं दिखता, नहीं फूटता , लगता है लोग नपुंसक हो गए हैं

कुछ फेसबुकिया नोट्स  दो साल पहले जब दिल्ली में निर्भया के साथ दुर्भाग्यपूर्ण घटा था, तत्कालीन सरकार ने लीपापोती की थी और सिंगापुर में उस का निधन हो गया...
Continue Reading »